कोरोना से पिता की मौत, मां पॉजिटिव और बेटा अमेरिका में फंसा, टिकट बुक होने के बाद भी नहीं मिल रहा वीजा….

पूर्वांचल पोस्ट न्यूज नेटवर्क

बरेली। कोविड संक्रमण बढ़ने से दिल्ली और गाजियाबाद के अस्तपालों में दूसरे राज्यों के मरीजों को लेने से इन्कार किया जा रहा है। बिहारीपुर खत्रियान के मूल निवासी अतुल टंडन को भी कोविड संक्रमण होने के बाद दिल्ली के बड़े अस्पतालों ने भर्ती नहीं किया। बेड फुल बताए गए। गाजियाबाद के छोटे अस्पताल में वह भर्ती हुए। आक्सीजन सपोर्ट तो मिला, लेकिन अस्पताल के पास वेंटीलेटर नहीं था।

उनका आक्सीजन लेवल 70 तक आने के बाद गाजियाबाद के डॉक्टरों ने भी हाथ खड़े किए। बरेली में उनके मौसेरे भाई बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. रवि खन्ना ने दिल्ली के कई अस्पतालों सें संपर्क किया। लेकिन कही बेड नहीं मिला। आखिरकार उन्हें इलाज नहीं मिलने पर एंबुलेंस के जरिए बरेली लाने पर रजामंदी बनी। बरेली के निजी अस्पताल में भर्ती करने के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका। डॉ. रवि ने बताया कि एंबुलेंस भी उन्हें लेट मिली क्योंकि हाइवे पर हादसा होने की वजह से एंबुलेंस को पहले घायल को दूसरे अस्पताल छोड़ने के लिए जाना पड़ा।

बाद में एंबुलेंस के जरिए वह बरेली अाए। इस दरम्यान डॉ रवि ने दो निजी अस्पतालों में बेड के लिए बात की लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। आखिरकार डीडीपुरम के गंगाशील अस्पताल में उन्हें भर्ती किया जा सका। यहां इलाज शुरू हुआ। लेकिन उनका आक्सीजन लेवल 50 फीसद रह गया था।इसलिए बचाया नहीं जा सका। क्लासिक कॉलेज के शिरीष मेहरोत्रा उनके साढ़ू भाई हैं। अतुल टंडन की पत्नी भी कोविड पॉजिटिव हैं। उनका इलाज चल रहा है। बेटा अमेरिका में था। फ्लाइट बुकिंग होने के बाद वीजा नहीं मिलने से बरेली नहीं आ सका। अंतिम संस्कार भी रिश्तेदारों ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!