पिता की अय्याशी से तंग बेटे व बेटी ने करवा दी हत्या, चार आरोपित गिरफ्तार……

पूर्वांचल पोस्ट न्यूज नेटवर्क

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा में सनसनीखेज वारदात सामने आई है। यहां बेटा और बेटी ने मिलकर अपने पिता की बेरहमी से हत्या करवा दी। पुलिस का दावा है कि चित्राहाट के नाहि का पुरा गांव में प्रधान पुत्र की हत्या अवैध संबंधों और अय्याशी के लिए जमीन बेचने के कारण हुई थी। बेटे और बेटी ने हत्या कराई थी। इसके बाद रंजिश में गांव के एक व्यक्ति को नामजद करा दिया। पुलिस ने बेटे, बेटी, बेटी के प्रेमी और उसके दोस्त को गिरफ्तार कर मामले का पर्दाफाश कर दिया।

चित्राहाट के नाहि का पुरा निवासी प्रधान पुत्र सुनील की 26 मार्च को सिर में डंडे से चोट मारकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में सुनील के बेटे ने गांव के ही अनवर के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया था। पुलिस की जांच में सामने आया कि सुनील कुमार अय्याश किस्म का व्यक्ति था। उसकी गांव व आसपास के गांवों में कई महिलाओं से अवैध संबंध थे। उन पर वह पैसा खर्च करके अय्याशी करता था। इसके लिए वह पूर्व में अपनी संपत्ति बेच चुका था। अब छह बीघा जमीन का सौदा भी करीब 20 लाख रुपये में कर दिया था। इसी को लेकर घर में क्लेश हो रहा था। सुनील की बेटी अल्पना और बेटा अनुज उनसे काफी नाराज थे।

21 मार्च को नाहि का पुरा निवासी अनवर का अनुज से किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया था। इस मामले में अनुज ने थाना चित्राहाट में रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। अनुज और उसकी बहन अल्पना ने मदन यादव से अपने पिता की हत्या करा दी। इसके बाद अनवर के खिलाफ हत्या का मुकदमा लिखा दिया। पुलिस की जांच में स्थिति स्पष्ट होने पर सोमवार रात को पुलिस ने सुनील के बेटे अनुजए बेटी अल्पना के साथ सूरज नगर निवासी मदन और संजेश को गिरफ्तार कर लिया।

एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि मदन और संजेश दोस्त हैं। संजेश के अल्पना से छह वर्ष से प्रेम संबंध हैं।अल्पना और उसके भाई अनुज से पिता सुनील द्वारा मारपीट की जाती थी। यह बात संजेश को पसंद नहीं थी।अनुज और अल्पना के साथ मिलकर संजेश ने हत्या की साजिश रची। संजेश ने अपने दोस्त मदन से फोन करके सुनील की हत्या करने को कहा। साजिश के तहत मदन 26 मार्च की रात को सुनील के घर गया। बरामदे में चारपाई पर सो रहे सुनील के सिर पर चारपाई के पाए से ताबड़तोड़ प्रहार कर हत्या कर दी। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त चारपाई के पाए को बरामद कर लिया। पर्दाफाश में इंस्पेक्टर बाह विनोद कुमार, सर्विलांस प्रभारी नरेंद्र कुमार, एसओ चित्राहाट महेंद्र भदौरिया की अहम भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!