चंदौलीः दो साल से स्वर्ग में वास लेकिन चंदौली पुलिस ने शांति भंग में किया चालान….

पूर्वांचल पोस्ट न्यूज नेटवर्क

चंदौली। शहाबगंज पुलिस अपने कारनामों से फिर से सुर्खियाें में है। शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न कराने को पुलिस की लापरवाही चर्चा का विषय बनी है। दो साल पूर्व अतायस्त गांव के स्वर्गवासी हो चुके मौनू पांडेय से उसे शांतिभंग का खतरा है। वहीं अन्य कुछ ऐसे ही लोगों का चालान कर दिया गया है। जो अब इस दुनिया में नहीं हैं।

गांव निवासी स्वर्गीय पारसनाथ पांडेय के छोटे पुत्र मोनू पांडेय की मौत दो साल पहले हो गई थी। पंचायत चुनाव में शांति व्यवस्था बनाए रखने के दृष्टिगत गांव के 53 लोगों का पुलिस ने चालान किया है। इनमें स्वर्गवासी मोनू पांडेय का भी नाम शामिल है। इतना ही नहीं एसडीएम न्यायालय से पाबंद के लिए जमानत कराने की नोटिस उनके घर पहुंची तो मामला उजागर हुआ। पुलिस की रिपोर्ट में शांतिभंग करने वालों में अधिकांश युवा हैं। मजे की बात यह कि सोबंथा ठेकहां गांव निवासी जाकिर पुत्र घिसियावन का चालान अतायस्तगंज गांव का निवासी दिखाकर कर दिया गया है। यही नहीं संविदा पर कार्यरत लाइनमैन धर्मदेव पुत्र नरेश साहनी को भी पाबंद करने की रिपोर्ट भेजी गई है। इनके नाम में त्रुटि है। यह तो नजीर मात्र हैं।

कई ऐसे है जो व्यवसाय के सिलसिले में अक्सर गैर प्रांतों में रहते हैं। उनसे चुनाव को लेकर कोई मतलब ही नहीं है। पुलिस ने उन्हें भी निशाने पर ले लिया है। बहरहाल, स्वर्गवासी मोनू पांडेय का चालान लोगों की समझ से परे है। ग्रामीणों ने कहा कि शांतिभंग की कार्रवाई में पुलिस ने लापरवाही बरती है। पुलिसकर्मी ने मिष्ठान की एक दुकान पर बैठकर सूची तैयार की और चालानी रिपोर्ट न्यायालय में भेज दिया। पुलिस की यह करतूत चर्चा का विषय बनी हुई है। लोगों ने पुलिस अधीक्षक अमित कुमार से मामले की शिकायत की। एसपी ने जांचकराकर पुलिसकर्मी व दारोगा के विरुद्ध कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया है।

पुलिसकर्मी व दारोगा की कार्यपद्धति की सीओ से जांच कराई जाएगी

मामला संज्ञान में आया है। मृतक का चालान नहीं होना चाहिए। पुलिसकर्मी व दारोगा की कार्यपद्धति की सीओ से जांच कराई जाएगी। दोषी मिलने पर कार्रवाई होगी।

अनिल कुमार, एएसपी आपरेशन।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *