सबका वोट डलवाएंगे, खुद वोट नहीं दे पाएंगे, 24 हजार मतदानकर्मी…..

पूर्वांचल पोस्ट न्यूज नेटवर्क

गोरखपुर। त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों को सकुशल संपन्न कराने के लिए 24 हजार मतदानकर्मियों की ड्यूटी लगायी गई है। ये मतदान कर्मी मतदान कर्मी लोकतंत्र के इस पर्व में अपना योगदान तो निभाएंगे लेकिन अपने मताधिकार का प्रयोग करने से वंचित रह जाएंगे। एक साथ पूरे जिले में चुनाव होने के कारण कोई भी कर्मचारी अपने गांव नहीं जा सकेगा। लोकसभा एवं विधानसभा के चुनाव में पोस्टल बैलेट के जरिए मतदान करने की सुविधा होती है लेकिन पंचायत चुनाव में राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से ऐसी कोई व्यवस्था नहीं की गई है। सभी जिलों की ओर से निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर इस संबंध में दिशा.निर्देश मांगा गया है।

पोस्टल बैलेट की नहीं है व्‍यवस्‍था

वर्ष 2015 तक हुए त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जिले में चार से पांच चरणों में मतदान होता था। ऐसे में कर्मचारियों की ड्यूटी इस तरह लगायी जाती थी कि वे अपने गांव में मताधिकार का प्रयोग भी कर लें और ड्यूटी भी हो जाए। परए इस बार एक साथ चुनाव होने के कारण कर्मचारी अपने इस संवैधानिक अधिकार से वंचित हो जा रहे हैं। पंचायत चुनाव में एक.एक वोट पर दावेदारों की नजर होती हैए इसलिए हर गांव के दावेदार अपने यहां के सरकारी कर्मियों से वोट डालने का जुगाड़ खोजने के लिए दबाव बना रहे हैं। परए कर्मचारियों को अभी तक कोई आश्वासन नहीं मिल सका है। इस संबंध में चुनाव प्रक्रिया से जुड़े जिलास्तर के अधिकारी कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं हैं। वे राज्य निर्वाचन आयोग से आने वाली गाइडलाइन का इंतजार करने की बात कह रहे हैं।

कर्मचारी संगठनों ने उठायी आवाज

राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद ने चुनाव ड्यूटी में लगे कर्मचारियों के मताधिकार का मुद्दो उठाया है। उन्होंने एडीएम वित्त एवं राजस्व राजेश कुमार सिंह से मुलाकात कर इस समस्या से अवगत कराया तो जिलाधिकारी कार्यालय में ज्ञापन दिया। परिषद के जिलाध्यक्ष रूपेश कुमार श्रीवास्तव ने राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव जयप्रकाश सिंह से बात की। उन्होंने इस संबंध में उच्च अधिकारियों से बात करने का आश्वासन दिया है। जिला मंत्री अश्विनी कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि वोट देना कर्मचारियों का मौलिक अधिकार है। जिलाधिकारी यह सुनिश्चित कराएं कि कर्मचारी कैसे अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। ज्ञापन सौंपने वालों में मदन मुरारी शुक्ल, वरुण बैरागी, गोविन्द, अनूप कुमार श्रीवास्तव, इजहार अली, उमेश, रामधनी पासवान, फुलई पासवान, जयप्रकाश गुप्ता

रजनीश, योगेन्द्र चौबे आदि शामिल रहे।

इस बार पूरे जिले में एक साथ चुनाव हो रहा है। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में पोस्टल बैलेट का प्रावधान नहीं है। कर्मचारियों के मताधिकार को लेकर क्या करना है। इसे लेकर राज्य निर्वाचन आयोग से मार्गदर्शन मांगा गया है। .

इंद्रजीत सिंह, मुख्य विकास अधिकारी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *